खा के गुजिया, पी के भंग लगा के थोड़ा-थोड़ा सा रंग बजा के ढोलक और मृदंग आओ खेले होली हम एक-दूजे संग होली मुबारक

Similar Quotes