रोटी से विचित्र कुछ भी नही हैं इन्सान पाने के लिए भी दौड़ता है और पचाने के लिए भी.

Similar Quotes